Breaking

Wednesday, September 9, 2020

भारत देश पर निबंध | Essay on India in Hindi

हम सबका प्यारा भारत देश, इसकी अद्भुद सुंदरता के कारण ही यह पूरे विश्व में एक अनोखा और महान राष्ट्र समझा जाता है। भारत देश की प्राकृतिक सुंदरता और भौतिक सुंदरता दोनों ही रोचक और आकर्षक है, जिसके चलते यह सबके आकर्षण का केंद्र रहता है। भारत देश की अतुल्य व्याख्या कर हम आपके समक्ष लेकर उपस्थित हुए है भारत देश पर निबंध, यह निबंध कक्षा 1 से लेकर कक्षा 12 तक के विद्यार्थियों को ध्यान में रखते हुए और बहुत ही सरल भाषा उपयोग कर प्रस्तुत किया गया है।

भारत देश पर निबंध | Essay on India in Hindi


Essay on India in Hindi, Bharat Desh Par Nibandh, भारत देश पर निबंध
Essay on India in Hindi

Essay on India in Hindi in 200 Words


भारत एक महान और लोकप्रिय देश है। यहाँ के लोग विभिन्न भाषाएँ बोलते हैं और यह देश विभिन्न जातियों, पंथों, धर्मों और संस्कृतियों से भरा हुआ है, लेकिन फिर भी यहाँ के लोग एक साथ रहते हैं। यही कारण है कि भारत पूरे विश्व में "विविधता में एकता" कहलाये जाने के लिए प्रसिद्ध है। भारत पूरी दुनिया में सातवां सबसे बड़ा देश है। यहाँ की मात्र भाषा 'हिंदी' है और राष्ट्रिय ध्वज 'तिरंगा'।

भारत को आध्यात्मिकता, दर्शन, विज्ञान और प्रौद्योगिकी की भूमि के रूप में भी जाना जाता है। भारत में दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आबादी बसती है। हमारा प्यारे भारत को हिंदुस्तान और कभी-कभी आर्यावर्त के नाम से भी जाना जाता है। अगर हम इसकी भौगोलिक रचना को देखें तो यह तीन तरफ से महासागरों से घिरा हुआ है जो पूर्व में बंगाल की खाड़ी, पश्चिम में अरब सागर और दक्षिण में हिंद महासागर हैं। भारत स्मारकों, कब्रों, चर्चों, ऐतिहासिक इमारतों, मंदिरों, संग्रहालयों, प्राकृतिक सुंदरता, वन्यजीव अभयारण्यों, वास्तुकला के स्थानों और कई अधिक से समृद्ध है। जो कि यह सब मिलकर भारत को एक अतुल्य राष्ट्र का दर्जा दिलाने में मदद करते है।

हम अपने देश की प्रसंशा जितनी भी करें उतनी कम है। पूरे विश्व में भारत की गड़ना शीश स्थान पर चली आ रही है और यह सिर्फ और सिर्फ भारत की सभ्यताओं, मान्यताओं, संस्कृतियों और नीतियों का नतीजा है। भारत देश दिन प्रतिदिन नए आयामों और संसाधनों की तरफ लगातार  बढ़ रहा है। भारत देश नए युग का देश कहलाए जाने लगा है और हमें अपने देश पर गर्व है।

भारत देश पर निबंध | India Par Essay in 1000 Words


प्रस्तावना

आज भारत देश विश्व में अपना एक उच्च स्थान बना चुका है। भारत देश कोई साधारण देश नही है। इसने युगों-युगों से चली आ रही प्राचीन सभ्यताओं, मान्यताओं और संस्कृतियों को समेटे हुए विश्व के इतिहास में अपनी अलग पहचान बनाई है। भारत के गौरवशाली इतिहास के कारण ही आज विश्व भर के लोग भारत देश के बारे में बहुत कुछ जानते है और दूर-दूर से भारत के बारे में जानने के लिए यहाँ आते है और भारत से परिचित होना चाहते है। उच्चकोटि संस्कृति को रखने वाला देश प्रतिदिन नई ऊंचाइयों को छू रहा है।

भौगोलिक स्थिति

भारत एशिया महाद्वीप में स्थित देश है। भारत की मुख्य भूमि 8°4′ से लेकर 37°6′ उत्तर अक्षांश के बीच है। भारत का देशांतरीय विस्तार 68°7′ पूर्व देशांतर से 97°25′ पूर्व देशांतर के मध्य है और कर्क रेखा (23°30′ उत्तरी अक्षांश) भारत को उत्तर-दक्षिण दो भागों में बांटती है। भारत के अक्षांशीय और देशान्तरीय विस्तार का अंतर लगभग 30° है। भारत का पूर्व-पश्चिम विस्तार 2,933 किलोमीटर तथा उत्तर-दक्षिण विस्तार 3,214 किलोमीटर है। कर्करेखा भारत को उत्तर-दक्षिण दो भागों में बांटती है। भारत के दक्षिण बिंदु में कन्याकुमारी के निकट बंगाल की खाड़ी, अरब सागर और हिन्द महासागर एक साथ मिले हुए हैं। मुख्य भूमि की तटीय लम्बाई 6,100 किलोमीटर तथा द्वीपों को मिलाकर तट की कुल लम्बाई 7,516.6 किलोमीटर है। भारत की स्थल सीमा की कुल लम्बाई 15,200 किलोमीटर है। भारत का कुल क्षेत्रफल 32.8 लाख वर्ग किलोमीटर है। भारत विश्व के कुल क्षेत्रफल का 2.4% भाग है।

विश्व के परिपेक्ष्य में भारत

क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का विश्व में स्थान सातवें पर है जबकि जनसंख्या की दृष्टि से ये विश्व में चीन के बाद दूसरा है। हमारा प्यारा देश भारत सात देशों का पड़ोसी देश है। जो निम्नलिखित है-
1) उत्तर-पश्चिम में अफगानिस्तान और पाकिस्तान
2) उत्तर में चीन, भूटान और नेपाल
3) पूर्व में बांग्लादेश और सुदूर पूर्व में म्यांमार

इसके अलावा भारत की विश्व में अपनी अलग ही पहचान है। भारत देश के प्रत्येक नागरिक के हृदय में वासुदेव कुटुम्बकम की भावना है जो समस्त विश्व को एक दृष्टि से देखती है। ये सदभावना, विश्व मैत्री तथा विश्व-बन्धुत्त्व की भावना पर आधारित होते हुए मानव के कल्याण पर बल देती है। दूसरे शब्दों में, 'अंतर्राष्ट्रीय सदभावना' विश्व के समस्त राष्ट्रों तथा उनके नागरिकों के प्रति प्रेम, सहानभूति तथा सहयोग की भावना को जागृत करती है।

भारत की राजनीतिक स्थिति

भारत एक संघीय, संसदीय, लोकतांत्रिक गणतंत्र राष्ट्र है। यहाँ पर सरकार जनता के द्वारा चुनी जाती है। भारत में कुल 28 राज्य और 8 केन्द्र-शासित प्रदेश हैं। सभी राज्यों और दो केन्द्र-शासित प्रदेशों- दिल्ली और पॉन्डिचेरी, में चुनी हुई सरकारें और विधानसभाएँ हैं। अन्य केन्द्र-शासित प्रदेशों पर देश की केन्द्र सरकार का शासन है। सभी राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों, पॉन्डिचेरी और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली, सरकार और विधायकों का निर्वाचित रूप है। उनका नेतृत्व एक मुख्यमंत्री करता है, जो पांच साल की अवधि के लिए चुने जाते हैं। अन्य केंद्र शासित प्रदेशों को सीधे केंद्र सरकार द्वारा शासित किया जाता है। 1956 के राज्य पुनर्गठन अधिनियम के तहत, राज्यों को भाषा के आधार पर पुनर्गठित किया गया था।

भारत में राष्ट्रपति राष्ट्र का प्रमुख होता है जबकि प्रधानमंत्री सरकार का प्रमुख होता है। भारत में राष्ट्रपति को नाम मात्र की शक्ति प्रदान होती है जबकि प्रधानमंत्री को सभी वास्तविक शक्तियां प्राप्त होती है।

भारत के राष्ट्रीय प्रतीक

भारत के राष्ट्र-प्रतीक भारत की पहचान हैं जो निम्न लिखित है

1) राष्ट्रीय ध्वज- भारत के राष्ट्रीय ध्वज को तिरंगा कहते है जिसमें तीन रंग हैं, हरा, सफेद और केसरिया। इसमें तीन रंग की पट्टी होती है। सबसे ऊपर केसरिया रंग होता है जो वीरता का प्रतीक है। बीच में सफेद रंग शांति का प्रतीक है और सबसे नीचे हरा रंग संपन्नता और हरियाली का प्रतीक है। सफेद रंग की पट्टी के बीच में एक 24 तीलियों वाला चक्र है जो अशोक चक्र के नाम से जाना जाता है। ये चक्र प्रगति का प्रतीक है।

2) राष्ट्रीय पक्षी:- मोर हमारे भारत का राष्ट्रीय पक्षी है। ये बहुत सुंदर होता है। वर्षा ऋतु में जब ये अपने पंखों को फैलाकर नृत्य करता है, तो यह दृश्य बहुत ही मनोरम दिखाई देता है। यही अद्भुद सुंदरता और मनोरम दृश्य हमारे देश भारत को दर्शाता है।

3) राष्ट्रीय पशु:- बाघ हमारे देश का राष्ट्रीय पशु है। इसे जंगल का राजा भी कहते है। ये भारत के वनों की संवृद्धि का प्रतीक है। पहले भारत का राष्ट्रीय पशु शेर था, लेकिन भारत में बाघों को बचाने के लिए प्रोजेक्ट टाइगर शुरु किया गया और सन् 1973 में बंगाल टाइगर को राष्ट्रीय पशु घोषित किया गया।

4) राष्ट्रीय पुष्प:- कमल हमारे देश का राष्ट्रीय पुष्प है। कमल को पवित्र पुष्प माना जाता है। भारत की प्राचीन कलाओं और गाथाओं में इस फूल का बहुत महत्त्वपूर्ण स्थान है।

5) राष्ट्रीय चिन्ह:- भारत का राजचिह्न सारनाथ में स्थित अशोक के सिंह स्तंभ की आकर्ति है, जो सारनाथ के संग्रहालय में सुरक्षित है। मूल स्तंभ में शीर्ष पर चार सिंह हैं, जो एक-दूसरे की ओर पीठ किए हुए हैं।

6) भारत की राष्ट्र भाषा:- हिंदी हमारे देश की राज भाषा है। इसकी लिपि देवनागिरी है। भारत के संविधान के अनुच्छेद 343 के तहत हिंदी भारत की 'राजभाषा' यानी राजकाज की भाषा मात्र है। भारत के संविधान में 'राष्ट्रभाषा' का कोई उल्लेख नहीं है।

7) भारत का राष्ट्र गान:- गुरुदेव रविन्द्र नाथ टैगोर द्वारा रचित 'जन गण मन' हमारे देश का राष्ट्र गान है। ये उनके द्वारा रचित पुस्तक 'आनंदमठ' से लिया गया है।

भारत एक धर्म निरपेक्ष राष्ट

भारत एक धर्म निरपेक्ष राष्ट्र है। यहां पर सभी धर्मों को एक सी मान्यता मिली हुई है। यहाँ पर हिन्दू, मुस्लिम, सिख और ईसाई सभी धर्मों के लोग रहते है और अपने अपने त्यौहारों को भाई चारे और सौहार्द से मनाते है। विभिन्न प्रकार की संस्कृति पाई जाने के कारण भी हमें यहां एकता देखने को मिलती है। सभी एक दूसरे की संस्कृतियों का सम्मान करते है और एक दूसरे से कुछ न कुछ सीखने की भावना रखते है। पूरे विश्व में केवल भारत ही एक ऐसा देश है जहाँ पर प्राकृतिक विविधता पाई जाती है। भारत भूमि संस्कारों की भूमि कहलाती है। यहां पर कई वीर पुरूषों ने जन्म लिया और भारत की अखंडता और एकता के निर्माण में अपना सहयोग किया है।

उपसंहार

इस प्रकार हम देखते है कि भारत देश विश्व में अपना अलग स्थान रखता है। भारत देश ने अपनी संस्कृति और संस्कारों के द्वारा विश्व के पटल पर अपनी अमिट छाप छोड़ी है। भारत देश 'अनेकता में एकता' वाला देश है जो सभी धर्मों को एक तरह ही मानता है और ये देश विश्व के सभी लोगों के प्रति वासुदेव कुटुम्बकम की भावना से ओत प्रोत है। आज हमारा देश दिन प्रतिदिन शिक्षा और व्यापारों में नित नए आयामों को छू रहा है और अब ये इतिहास में सोने की चिड़िया कहलाने वाला देश एक बार फिर संवृद्धि और संपन्नता की ओर अग्रसर हो रहा है और अब भारत देश की भी विकासशील देशों में गिनती की जा रही है। भारत देश के सभी भारत वासियों को विश्वास है एक दिन ये भारत पूरे विश्व में अपना एक नया इतिहास बनाएगा।

दोस्तों, आपको यह Essay on India in Hindi कैसा लगा, हमें ज़रूर बताए अपने महत्वपूर्ण कमेंट के जरिये। आप हमसे अपने सुझाव भी साझा कर सकते है।

No comments:

Post a Comment